भगवद् गीता विचार

*|| भगवद् गीता विचार ||* इस कर्मयोग में आरंभ का अर्थात बीज का नाश नहीं है और उलटा फलरूप दोष भी नहीं है, बल्कि इस कर्मयोग रूप धर्म का थोड़ा-सा भी साधन जन्म-मृत्यु रूप महान भय से रक्षा कर लेता है। *अध्याय- 2 श्लोक- 40* Download Bhagavad Gita App

By Badulescu Radu

I am very interested by extraordinarily spiritual things

Create your website with WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: